चच

यह फूल 14 साल में केवल एक बार खिलता है, जिसने भी देखा वह हो गया मालामाल

पीपल, वट और तुलसी के पौधों में दैवीय शक्तियां पाई जाती हैं।  जिसकी लोग पूजा करते हैं।  इसी के साथ वे सद्गुणों से परिपूर्ण होते हैं।  इसके अलावा हम देवी-देवताओं की फूलों से पूजा करते हैं।  तो दूसरी तरफ एक फूल है, जो दैवीय शक्ति से भरपूर है।  आज हम आपको ब्रह्म फूल के बारे में बताने जा रहे हैं।  इसे भगवान ब्रह्मा का फूल माना जाता है।

ब्रह्म फूल आपको किसी आम जगह पर नहीं मिलेगा।  यह फूल हिमालय की ऊंचाई पर पाया जाता है।  इसका अपना पौराणिक महत्व है।  इस फूल के बारे में मान्यता है कि जिसे भी यह फूल मिलता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कमल जैसा दिखने वाला यह फूल सफेद रंग का होता है।  यह बिल्कुल आश्चर्यजनक लगता है।

ब्रह्म कमल पर मौजूद हैं ब्रह्मा जी: ब्रह्मा फूल को लेकर कई मिथक हैं।  एक मान्यता के अनुसार, ब्रह्मांड के निर्माता भगवान ब्रह्मा कमल पर विराजमान हैं।  वही ब्रह्मा कमल है, जिससे सृष्टि के रचयिता ब्रह्माजी की उत्पत्ति हुई थी।  एक अन्य कथा के अनुसार जब पांडव वनवास में थे तब द्रौपदी भी पांडवों के साथ थी।  कौरवों के अपमान को द्रौपदी नहीं भूल पाई।  इसके साथ ही जंगल भी त्राहि-त्राहि कर रहा था।

जिससे वह मानसिक रूप से परेशान रहने लगी थी।  फिर अचानक उसने पानी की लहर में एक सुनहरा कमल बहता देखा, तो उसके सारे दुख एक अलग खुशी में बदल गए।  कमल को देखकर उनके मन में एक अलग आध्यात्मिक ऊर्जा का अनुभव हुआ।  जिसके बाद द्रौपदी ने अपने पति भीम को उस सुनहरे फूल को खोजने के लिए भेजा।  इसी खोज के दौरान भीम की मुलाकात हनुमानजी से हुई।

इसे एक बार देखने वाले की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं: ब्रह्मफुल के बारे में मान्यता है कि जो कोई भी इस फूल को अपने जीवन में एक बार देखता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।  इसे खिलते हुए देखना भी आसान नहीं है क्योंकि यह देर रात में खिलता है और केवल कुछ घंटों तक ही रहता है।  यह फूल 14 साल में केवल एक बार ही खिलता है, जिससे इसे देखना बहुत मुश्किल हो जाता है।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.